पेट दर्द क्या है: कारण, लक्षण, उपाय व पूरी जानकारी - Bio Grap

पेट दर्द क्या है: कारण, लक्षण, उपाय व पूरी जानकारी

आज के इस लेख में हम पेट दर्द क्या है इसके बारे में बात करेंगे पेट दर्द के कारण क्या है इसके लक्षण क्या है और पेट दर्द को दूर करने के उपाय क्या है इन सब के बारे में डिटेल में जानकारी प्राप्त करेंगे। आज कल पेट दर्द होना एक आम समस्या बन चुकी है। पेट मे दर्द तब होता है जब पेट मै गैस बनती है या जब कुछ उल्टा सीधा खा लें तब दर्द उठता है। आइए पेट दर्द से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां को प्राप्त करते है।

पेट दर्द क्या है

पेट दर्द एक तरीके का दर्द ही है जो हमे पेट मे तकलीफ देता है ये दर्द कभी कभी असहनीय भी हो जाता है। पेट मे जब भी किसी को दर्द होता है तब या तो वो पेट के उपरी हिस्से में दर्द की भावना होती है या निचले भाग मे होता है।

पेट दर्द क्या है पूरी जानकारी
पेट दर्द क्या है पूरी जानकारी

ऐसे करते करते धीमे से होते होते तेज़ तक हो सकता है ऐसा होना स्वाभाविक है क्यूंकि आज कल के लोगो कि जीवन शैली इतनी ज्यादा अनियमित हो गई है कि उसका सीधा असर पाचन तंत्र पर ही पड़ता है। जिसके कारण पेट दर्द या अन्य बीमारी पैदा होती है।

पेट का दर्द लंबे समय तक या फिर कुछ मिनटों के लिए भी हो सकता है पेट मे दर्द ऊपरी, निचले, दाएं, बाएं, या मध्य कहीं भी हो सकता है।

पेट दर्द के प्रकार

पेट दर्द के कई सारे प्रकार है –

1- ऐंठन

ऐठन एक प्रकार का ऐसा दर्द है जो आता जाता रहता है होने की स्थिति या गंभीरता मे भी बदल सकता है।

2- सामान्य दर्द

सामान्य दर्द पेट के आधे या उससे अधिक हिस्सों मे दर्द होता है।

3- स्थानीय दर्द

स्थानीय दर्द पेट के किसी एक हिस्से में होतास्थानीय दर्द पेट के किसी एक हिस्से में होता है। अगर ये दर्द बढता है तो ये चिंताजनक समस्या का लक्षण भी बन सकता है।

पेट दर्द के कारण

पेट दर्द के कई सारे कारण हो सकते है आइए जानते है वो कौन कौन से कारण है।

• खाना ना पचना (अपच) से भी पर दर्द हो सकता है।

• फूड प्वाइजनिंग से तो हम सभी समझते है कि दर्द उत्पन्न होता ही है।

• फूड एलर्जी

• इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम

• अपेंडिसाइटिस

• पेट का फ्लू से भी पर दर्द होता है।

• हर्निया

• मासिक धर्म मे ऐंठन

• पित्ताशय की पथरी

• कब्ज भी पेट दर्द का एक कारण है।

• फोड़ा

• कुछ दिल के दौरे और निमोनिया मे भी पर दर्द की शिकायत आ सकती है। ये भी उनमें से एक कारण ही है।

• कुछ त्वचा के चिकक्ते भी पर दर्द का कारण बन सकते हैं।

• अगर आपको कोई जहरीले कीड़े भी काट लेते हैं तो उसकी वजह से भी पेट दर्द की समस्या हो सकती है।

• मूत्र पथ के संक्रमण भी पेट दर्द का एक कारण है।

पेट दर्द के लक्षण

आपको पता है पेट दर्द ही अपने आप में एक लक्षण है मतलब ये कि जिन व्यक्तियों को काफी समय से पेट दर्द है उनको इलाज की सख्त जरूरत है। अपने लक्षण की खास कर पहचान कर रखिए इससे डॉक्टर को आपके पेट दर्द के कारण को पहचानने में मदद मिलेगी।

• अगर आप काफी समय से खाना नहीं खा पा रहे हैं या खाना खाने में असमर्थ है तो ये पेट दर्द का ही एक लक्षण है।

• मल मे खून आना भी पेट दर्द का एक कारण हो सकता है।

• सांस लेने में तकलीफ।

• उल्टी मे रक्त आना।

• बुखार

• दर्दनाक और असमान रूप से लगातार पेशाब होना।

• गर्भवास्था के दौरान महिलाओं को दर्द होना।

• पेट स्पर्श करने में मुलायम महसूस होना भी पेट दर्द का ही एक लक्षण है।

• पेट मे चोट लगने के कारण दर्द होना।

• बॉडी के किसी भी हिस्से में एक से ज्यादा दिनों तक दर्द।

ऊपर बिंदुओ से बताए सभी लक्षण आंतरिक सस्ता का संकेत देती है।

पेट दर्द को कम करने के उपाय

पेट दर्द से तुरंत आराम चाहिए तो वजन जानकर उसका सही इलाज जल्द से जल्द शुरू करें। लेकिन आम तौर पर अपनी जीवन शैली मै सुधार कर के आप अपने पेट दर्द का इलाज घर पर ही कर सकते है और उससे आपको काफी रिलीफ भी मिलता है। आइए उपायों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

• खाने की गति पर नियंत्रण रखें

यदि आप खाने का कौर बड़ा बड़ा खाते हैं या चबा कर नहीं खाते हैं तो ये आप बहुत गलत कर रहे हैं ऐसे में इंसान खाने के साथ हवा भी अवश्य निगल रहा होगा। जिससे आपके पेट मे गैस बनेगी और आपका पेट दर्द होगा। इसलिए खाने को धीरे धीरे खाएं और हर कौर को 21 बार चबा चबा कर खाएं फिर निगलें।

• भोजन के बीच के समय को कम करें

कुछ लोगों को भोजन के बीच के अंतराल में पेट मे काफी दर्द होता है। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो आप पूरे दिन में छोटे छोटे अंतराल पर भोजन लें या बीच बीच में स्नैक्स का सेवन कर सकते हैं। जिसमे आपका पर पूरे दिन के लिए लंबे समय तक खाली ना रहे। लेकिन इसके विपरीत भी हो सकता है कि आप ज्यादा खा लें तो भी पर दर्द होने लगे उसके लिए आपको सूझ बूझ कर है खाना है।

• तनाव मुक्त रहें

हमेशा तनाव मुक्त रहें क्योंकि कुछ लोग को तनाव के कारण उनके दिल की धड़कनों में वृद्धि होती है या उनकी हथेलियों में पसीना भी आने लगता है या उन्हें पेट दर्द होता। तनावमुक्त रहने के लिए आप डेली व्यायाम, या ध्यान लगाने की कोशिश कर सकते हैं। अगर इससे भी आपको फायदा नहीं मिल रहा है तो आप डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।

• तला भुना ना खाएं

अपने खान पान का बहुत ख्याल रखे  आज कल आधी से जायदा बीमारियां फिर चाहे वो फूड एलर्जी हो या फूड प्वाइजनिंग सब उल्टा सीधा खाने से ही होती है। बाहर का ज्यादा खाने से आपके पाचन तंत्र की प्रक्रिया धीमी हो सकती है। जिससे आपको भविष्य में काफी नुकसान भी हो सकता है। ऐसे मे आपको अपने खान पान का खास ख्याल रखना है।

• खूब पानी पिएं

पानी ज्यादा पीने से अनेक रोग दूर होते हैं और ये आपके पेट की गतिविधियों को भी ठीक रखता है। जब भी आपको प्यास लगे तो पानी पिए, कोल्डड्रिंक या अन्य किसी भी बाहरी पिये वस्तु से दूर रहें। एल्कोहोल का सेवन अगर आल भूलवश भी कर रहे हैं तो इसको तुरंत त्याग दें।

FAQ

पेट मे दर्द क्यो होता है?

नींद कम लेना, एक जगह बैठकर काम करना, जंग फूड ज्यादा खाना आदि वजह से पेट दर्द में दर्द रहता है।

पेट दर्द कितने प्रकार के होता है?

पेट में समानता स्थानीय दर्द, ऐंठन का दर्द या सामान्य दर्द होता है।

पेट दर्द का घरेलू उपचार क्या है?

अगर आपके पेट में दर्द है तो मेथी दाना की मदद से ठीक कर सकते हैं। इसके लिए आपको मेथी दाना को थोड़ा भूनना होगा फिर उसे पाउडर बनाकर हल्का गर्म के पानी में थोड़ा डालकर पी लेना है। इससे आपको पेट दर्द से काफी राहत मिलेगी।

Conclusion

आज के इस लेख में हमने पेट दर्द क्या है किस कारण से होता है इसके लक्षण क्या है और पर दर्द को कम करने के उपाय क्या है इसपर जानकारी प्राप्त करी है। हम उम्मीद करते है आपको हमारा लेख पसंद आया होगा यदि पसंद आया हो तो इसे शेयर अवश्य करें और अगर आपके मन मे कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट कर के जरूर पूछिएगा।

Leave a Comment